शिक्षक साथी यहाँ से डाउणलॉड करें ।
STD X ‍। STD IX

HINDI TEACHER TEXT UPDATED VERSION (STD-8)

Powered by Blogger.

Friday, 15 November 2013

मनुष्यता-कार्यपत्रिका



प्र॰1-कवि ने कैसी मृत्यु को सुमृत्यु कहा है?
उ॰ .............................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
प्र॰2-कवि ने दधीचि ,कर्ण आदि महान व्यक्तियों के उदाहरण देकर मनुष्यता के लिए क्या संदेश दिया है ?
उ॰ .............................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
प्र॰3- कवि ने किन पंक्तियों में यह व्यक्त है कि हमें गर्व रहित जीवन व्यतीत करना चाहिए ?
उ॰ .........................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
प्र॰4-कवि ने सबको एक साथ चलने की प्रेरणा क्यों दी है ?
उ॰ .........................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
प्र॰5-व्यक्ति को किस प्रकार का जीवन व्यतीत करना चाहिए ? इस कविता के आधार पर लिखिए।
उ॰ .............................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
प्र॰6-’मनुष्यता’ कविता के माध्यम से कवि क्या संदेश देना चाहता है ?
उ॰ .................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
कविता का आशय लिखें(उत्तऱ)
1. विचार लो कि मर्त्य हो न मृत्यु से डरो भी,
मरो,परंतु यों कि याद जो करें सभी।
हुई न यों सुमृत्यु तो वृथा जिए,
मरा नहीं वही कि जो जिया न आपके लिए।
वही पशु-प्रवृत्ति है कि आप ही आप चरे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

आशय -

......................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
2 क्षुधार्त रंतिदेव ने दिया करस्थ थाल भी,
तथा दधीचि ने दिया परार्थ अस्थिजाल भी।
उशीनर क्षितीश ने स्वमांस दान भी किया,
सहर्ष वीर कर्ण ने शरीर -चर्म भी दिया।
अनित्य देह के लिए अनादि जीव क्या डरे ?
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

आशय-

..............................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
3. रहो न भूल के कभी मदांध तुच्छ वित्त में,
सनाथ जान आपको करो न गर्व चित्त में।
अनाथ कौन है यहॉ ? त्रिलोकनाथ साथ है,
दयालु दीनबंधु के बड़े विशाल हाथ हैं।
अतीव भाग्यहीन है अधीर भाव जो करे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

आशय-

......................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................
4 चलो अभीष्ट मार्ग में सहर्ष खेलते हुए,
विपत्ति,विघ्न जो पड़ें उन्हें ढकेलते हुए।
घटे न हेलमेल हां,बढ़े न भिन्नता कभी,
अतर्क एक पंथ के सतर्क पंथ हों सभी।
तभी समर्थ भाव है कि तारता हुआ तरे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

आशय-

......................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................

मनुष्यता (उत्तर)

प्र॰1-कवि ने कैसी मृत्यु को सुमृत्यु कहा है?
उ॰ -कवि ने ऐसी मृत्यु को सुमृत्यु कहा है जो मानवता की राह मे परोपकार करते हुए आती है जिसके बाद मनुष्य को मरने के बाद भी याद रखा जाता है।
प्र॰2-कवि ने दधीचि ,कर्ण आदि महान व्यक्तियों के उदाहरण देकर मनुष्यता के लिए क्या संदेश दिया है ?
उ॰- कवि ने दधीचि ,कर्ण आदि महान व्यक्तियों के उदाहरण देकर ‘मनुष्यता’के लिए यह संदेश दिया है कि परोपकार के लिए अपना सर्वस्व यहॉ तक कि अपने प्राण तक न्योंछावर तक करने को तैयार रहना चाहिए।यहॉ तक कि परहित के लिए अपने शरीर तक का दान करने को तैयार रहना चाहिए।दधीचि ने मानवता की रक्षा के लिए अपनी अस्थियॉ तथा कर्ण ने खाल तक दान कर दी।हमारा शरीर तो नश्वर हैं उसका मोह रखना व्यर्थ है।परोपकार करना ही सच्ची मनुष्यता है। हमें यही करना चाहिए।
प्र॰3- कवि ने किन पंक्तियों में यह व्यक्त है कि हमें गर्व रहित जीवन व्यतीत करना चाहिए ?
उ॰-निम्नलिखित पंक्तियों में गर्व रहित जीवन व्यतीत करने की बात कही गई है-
रहो न भूल के कभी मदांध तुच्छ वित्त में।
सनाथ जान आपको करो न गर्व चित्त में॥
प्र॰4-कवि ने सबको एक साथ चलने की प्रेरणा क्यों दी है ?
उ॰-कवि ने सबको एक साथ चलने की प्रेरणा इसलिए दी है क्योंकि सभी मनुष्य उस एक ही परमपिता परमेश्वर की संतान हैं इसलिए बंधुत्व के नाते हमें सभी को साथ लेकर चलना चाहिए क्योंकि समर्थ भाव भी यही है कि हम सबका कल्याण करते हुए अपना कल्याण करें।
प्र॰5-व्यक्ति को किस प्रकार का जीवन व्यतीत करना चाहिए ? इस कविता के आधार पर लिखिए।
उ॰- व्यक्ति को परोपकार का जीवन व्यतीत करना चाहिए।साथ ही अपने अभीष्ट मार्ग पर एकता के साथ बढ़ना चाहिए। इस दौरान जो भी विपत्तियॉ आऍं,उन्हें ढकेलते हुए आगे बढ़ते जाना चाहिए।उदार ह्रदय बनकर अहंकार रहित मानवतावादी जीवन व्यतीत करना चाहिए।
प्र॰6-’मनुष्यता’ कविता के माध्यम से कवि क्या संदेश देना चाहता है उ॰-’मनुष्यता’कविता के माध्यम से कवि यह संदेश देना चाहता है कि हमें अपना जीवन परोपकार में व्यतीत करना चाहिए। सच्चा मनुष्य दूसरों की भलाई के काम को सर्वोपरि मानता है।हमें मनुष्य मनुष्य के बीच कोई अंतर नहीं करना चाहिए। हमें उदार ह्रदय बनना चाहिए । एक अन्य संदेश वह यह भी देना चाहते है कि हमें धन के मद में अंधा नहीं बनना चाहिए। मानवता वाद को अपनाना चाहिए।
कविता का आशय लिखें 
1. विचार लो कि मर्त्य हो न मृत्यु से डरो भी,
मरो,परंतु यों कि याद जो करें सभी।
हुई न यों सुमृत्यु तो वृथा जिए,
मरा नहीं वही कि जो जिया न आपके लिए।
वही पशु-प्रवृत्ति है कि आप ही आप चरे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥
भावार्थ-
कवि कहते हैं कि इस बात पर भली भांति विचार कर लो कि तुम नश्वर हो तुम्हारी मृत्यु अवश्यंभावी है इसलिए कभी मृत्यु से मत डरो वरन् अपने लिए कभी ऐसी मृत्यु चुनो जिससे मरने के बाद सभी तुम्हें याद रखें ।यदि तुम्हें अच्छी मृत्यु प्राप्त नहीं हुई तो तुम्हारा जीवन और मरण दोनों ही बेकार है।जो अपने लिए नहीं जीता अर्थात् दूसरों के लिए जीता है वह अमर होता है। स्वयं चरते रहना अर्थात् केवल अपनी सुविधाओं का ध्यान रखना तो पशुओं की प्रवृत्ति होती है। केवल अपनी सुविधा का ध्यान रखने वाले व्यक्ति पशु के समान होते हैं। सच्चा मनुष्य वही है जो दूसरे के लिए मरता है अर्थात् जो परोपकार करता है वही सच्चा मनुष्य है।
2 क्षुधार्त रंतिदेव ने दिया करस्थ थाल भी,
तथा दधीचि ने दिया परार्थ अस्थिजाल भी।
उशीनर क्षितीश ने स्वमांस दान भी किया,
सहर्ष वीर कर्ण ने शरीर -चर्म भी दिया।
अनित्य देह के लिए अनादि जीव क्या डरे ?
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

भावार्थ-

कवि ने अपने कथन की पुष्टि में विभिन्न महापुरुषों के उदाहरण देते हुए कहा है कि दूसरे की भूख शांत करने के लिए स्वयं भूख से व्याकुल रंतिदेव ने अपने हाथ का भोजन का थाल भी दे दिया था।दधीचि ने तो परोपकार के लिए अपनी हड्डियों का भी दान दे दिया था।उशीनर देश के राजा अर्थात् शिवि ने तो पक्षी की रक्षा करने के लिए अपना मांस तक दान कर दिया था।वीर कर्ण ने तो अपने शरीर की खाल तक दान कर दी थी।इस नश्वर शरीर की रक्षा के लिए अमर मनुष्यता को डरना नहीं चाहिए क्योंकि मनुष्य वही है जो दूसरे के लिए जीता है।
3. रहो न भूल के कभी मदांध तुच्छ वित्त में,
सनाथ जान आपको करो न गर्व चित्त में।
अनाथ कौन है यहॉ ? त्रिलोकनाथ साथ है,
दयालु दीनबंधु के बड़े विशाल हाथ हैं।
अतीव भाग्यहीन है अधीर भाव जो करे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

भावार्थ-

कवि कहता है कि कभी भूलकर भी अपने थोड़े से धन के अहंकार में अंधे होकर स्वयं को सनाथ अर्थात् सक्षम मानकर अपने गर्व मत करो क्योंकि अनाथ तो कोई नहीं है।इस संसार का स्वामी ईश्वर तो सबके साथ है और ईश्वर तो बहुत दयालु ,दीनों और असहायों का सहारा है और उनके हाथ बहुत विशाल है अर्थात् वह सबकी सहायता करने में सक्षम है।प्रभु के रहते भी जो व्याकुल रहता है वह बहुत ही भाग्यहीन है।सच्चा मनुष्य वह है जो मनुष्य के लिए मरता है।
4 चलो अभीष्ट मार्ग में सहर्ष खेलते हुए,
विपत्ति,विघ्न जो पड़ें उन्हें ढकेलते हुए।
घटे न हेलमेल हां,बढ़े न भिन्नता कभी,
अतर्क एक पंथ के सतर्क पंथ हों सभी।
तभी समर्थ भाव है कि तारता हुआ तरे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे॥

भावार्थ-

कवि कहता है कि अपने इच्छित मार्ग पर प्रसन्नतापूर्वक हंसते खेलते चलो और रास्ते पर जो कठिनाई या बाधा पड़े उन्हें ढकेलते हुए आगे बढ़ जाओ।परंतु यह ध्यान रखना चाहिए कि हमारा आपसी सामंजस्य न घटे और हमारे बीच भेदभाव न बढ़े।हम तर्क रहित होकर एक मार्ग पर सावधानीपूर्वक चलें।एक दूसरे को तारते हुए अर्थात् उद्धार करते हुए आगे बढ़े तभी हमारी समर्थता सिद्ध होगी अर्थात् हम तभी समर्थ माने जाएंगे जब हम केवल अपनी ही नहीं समस्त समाज की भी उन्नति करेंगे।सच्चा मनुष्य वही है जो दूसरों के लिए मरता है।

4 comments:

  1. यह तो बहहुत अच्छा हुआ। आप लोगों का प्रयास सराहनीय ही हैं।

    ReplyDelete
  2. The notes send from you to us were very useful for teaching.THANK YOU.

    ReplyDelete

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom