शिक्षक साथी यहाँ से डाउणलॉड करें ।
STD X ‍। STD IX

HINDI TEACHER TEXT UPDATED VERSION (STD-8)

Powered by Blogger.

Saturday, 24 December 2016

वाच्य और वाच्य परिवर्तन


वाच्य (Voice) क्रिया का विधान
हिंदी में वाच्य तीन प्रकार के हैं –
कर्तृवाच्य(Active Voice)                                                                                                                                                              
कर्मवाच्य (Passive Voice) और                                                                         
भाव वाच्य (Impersonal Voice)
कर्तृवाच्यः  लड़का पानी पीता है।
लड़काः कर्ता,  पानीः कर्म और  पीता हैः क्रिया।
लड़का पानी पीता है।              लड़के से पानी पिया जाता है।
लड़के पानी पीते हैं।                 लड़कों से पानी पिया जाता है।
लड़की पानी पीती है।              लड़की से पानी पिया जाता है।
लड़कियाँ पानी पीती हैं।          लड़कियों से पानी पिया जाता है।

कर्तृवाच्य में कर्ता की प्रधानता है तो 
कर्मवाच्य में कर्म की प्रधानता है।
     कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य                                                                                       करता + से - क्रिया कर्म के अनुसार
लड़का पत्ता लाता है।             लड़के से पत्ता लाया जाता है।                                                          लड़का पत्ते लाता है।                   लड़के से पत्ते लाए जाते हैं।                                                           लड़का पत्ती लाता है।        लड़के से पत्ती लाई जाती है।                                                            लड़का पत्तियाँ लाता है।            लड़के से पत्तियाँ लाई जाती हैं।  
    सकर्मक भूतकालिक वाक्यः ने प्रत्य
कमला ने कपड़ा खरीदा।     कमला से कपड़ा खरीदा गया।                                                        कमला ने कपड़े खरीदे।      कमला से कपड़े खरीदे गए।                                                           कमला ने साड़ी खरीदी।      कमला से साड़ी खरीदी गई।                                                            कमला ने साड़ियाँ खरीदीं।    कमला से साड़ियाँ खरीदी गईं।
कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य                                                  
मैं आम खाता हूँ।   आमः पुलिंग एकवचन 
कर्ता + से मैं + से - मुझसे  
क्रिया - खाया जाता है।                            
आम कर्म पुल्लिंग एकवचन।     
मुझसे आम खाया जाता है।                                                       
अंजना दो पत्र लिखती है।  
पत्रः पुल्लिंग बहुवचन। करता + से - 
अंजना से। लिखे जाते हैं कर्म पुलिंग वहुवचन।  
अंजना से पत्र लिखे जाते हैं।                                                 
तुम क्या करते हो? कर्म में नहीं दिया गया है। 
करता + से - तुमसे किया जाता है। 
कर्म व्यक्त नहीं, अतः पुल्लिंग एकवचन।   
तुमसे क्या किया जाता है? 
     कर्मवाच्य से कर्तृवाच्य
गोपाल से कलम खरीदी जाती है। 
कलमः स्त्रीलिंग एकवचन, 
गोपालः पुल्लिंग एकवचन। 
गोपाल कलम खरीदता है।               
विनया से फूल तोड़ा जाता है।      
फूलः पुल्लिंग एकवचन,  
विनयाः स्त्रीलिंग एकवचन। 
विनया फूल तोड़ती है।                
किस से चाय बनाई जाती है?   
कौन + से - किस से। 
कौन (पु.) कौन चाय बनाता है? 
कौन (स्त्री) कौन चाय बनाती है?
     भाववाच्य (Impersonal Voice)
भाववाच्य में कर्ता या कर्म की प्रधानता नहीं रहती, 
भाव की प्रधानता रहती है। 
ये अधिकतर निधेषवाचक वाक्यों में प्रयोग किया जाता है।
मैं चल नहीं सकता। मुझसे चला नहीं जाता।                                                      
मछली उड़ नहीं सकती।  मछली से उड़ा नहीं जाता।                                                     
बुड्ढा दौड़ नहीं सकता।  बुड्ढे दौड़ा नहीं जाता। 
     वाच्य परिवर्तन दिन विभिन्न कालों में
सामान्य वर्तमान कालः      
     माता जी दोसा बनाती हैं। माता जी से दोसा बनाया जाता है।                     
तात्कालिक वर्तमानकालः      
    माताजी दोसा बना रही हैं। माता जी से दोसा बनाया जा रहा है।                   
संदिग्ध वर्तमान कालः       
    माताजी दोसा बनाती होंगी। माता जी से दोसा बनाया जाता होगा।                  
सामान्य भूतकालः           
    माताजी ने दोसा बनाया। माताजी से दोसा बनाया गया।                              
आसन्न भूतकालः         
   माताजी ने दोसा बनाया है। माता जी से दोसा बनाया गया है।                           
पूर्ण भूतकालः               
   माताजी ने दोसा बनाया था। माता जी से दोसा बनाया गया था।                         
अपूर्ण भूतकालः                 
   माताजी दोसा बना रही थी। माताजी से दोसा बनाया जा रहा था।                     
संदिग्ध भूतकालः               
   माताजी ने दोसा बनाया होगा। माता जी से दोसा बनाया गया होगा।                   
हेतु हेतु भूतकालः            
  यदि माताजी दोसा बनाती... यदि माता जी से दोसा बनाया जाता..
सामान्य भविष्यत कालः      
   माताजी दोसा बनाएँगी। माताजी से दोसा बनाया जाएगा।                     
संभाव्य भविष्यकालः         
  माताजी डोसा बनाएँ। माताजी से दोसा बनाया जाए।

Tuesday, 20 December 2016

II Term Exam. Dec. 2016 VIII Hin Qn Analysis


II Term Exam. Dec. 2016 VIII Hin Qn Analysis

1. ചോദ്യം 5ന്റെ ഉത്തരം എഴുതുക കുട്ടികള്‍ക്ക് പ്രയാസകരമായിരിക്കും. സൂചകങ്ങള്‍ പര്യാപ്തമല്ല.
2. ചോദ്യം 8ന് ഉത്തരമായി കുട്ടികള്‍ 3 വാക്യങ്ങള്‍ മാത്രം എഴുതാനാണ് സാധ്യത.
3. ചോദ്യം 9ല്‍ आस्वादन टिप्पणी എഴുതാനായി ചോദിച്ചിരിക്കുന്നു. സാധാരണയായി ഇപ്പോള്‍ ഈ രീതിയിലുള്ള ചോദ്യങ്ങള്‍ കാണാറില്ല.
4.എട്ടാം തരത്തില്‍ दोहा യെ അടിസ്ഥാനമാക്കി 4 മാര്‍ക്കിന്റെ ഉത്തരമെഴുതാനായി ചോദിച്ചുകാണുന്നത് ആദ്യമായാണ്. ഇത് അല്‍പം പ്രയാസകരമായ ചോദ്യമാണ്. കുട്ടികള്‍ തൃപ്തികരമായി ഉത്തരമെഴുതാന്‍ സാധ്യതയില്ല.
5. കവിതകളെ അടിസ്ഥാനമാക്കി 24 മാര്‍ക്കിന്റെ ചോദ്യം. അതായത് 55 ശതമാനത്തോളം ചോദ്യം കവിതകളെ അടിസ്ഥാനമാക്കി. ഇതെങ്ങിനെ സംഭവിച്ചു എന്നത് വല്ലാതെ അമ്പരപ്പുണ്ടാക്കി. ഇത് സാധാരണ ചോദിച്ചുവരാറുള്ളതിന്റെ ഇരട്ടിയിലധികമാണ്.
6. അലവസാനത്തെ ഭാഗത്ത് നിന്ന് 8 മാര്‍ക്കിന്റെ ചോദ്യം ചോദിക്കപ്പെട്ടിരിക്കുന്നു. മേളകളുടെ ടേമില്‍ ഭൂരിപക്ഷം അധ്യാപകരും എടുത്ത്തീര്‍ത്തിട്ടുണ്ടാകാന്‍ സാധ്യതയില്ലാത്ത അവസാന ഭാഗം ഇത്രയധികം ചോദ്യം ചോദിക്കുന്നതില്‍ നിന്ന് ഒഴിവാക്കാമായിരുന്നു.
                                                              രവി.

Friday, 16 December 2016

II Term Exam Dec 2016 IX Hin Qn Analysis


1. 6 മുതല്‍ 8 വരെ ചോദ്യങ്ങള്‍ക്ക് ഉത്തരമെഴുതാനായി കൊടുത്ത ഗദ്യഭാഗത്ത് കൊടുത്ത चुनौती, ज़िम्मेदार, आदत, बदलाव മുതലായ പദങ്ങളുടെ അര്‍ത്ഥം ഭൂരിഭാഗം കുട്ടികള്‍ക്കും അറിയാന്‍ സാധ്യതയില്ല. അത് കുട്ടികള്‍ തൃപ്തികരമായി ഉത്തരമെഴുതുന്നതില്‍ തടസ്സം സൃഷ്ടിച്ചിരിക്കാം.
2. ചോദ്യം 12 ല്‍ കൊടുത്ത प्रयोजन എന്ന പദം മലയാളത്തിലെ 'പ്രയോജന'ത്തിന്റെ സമാനപദമായി കാണുന്നത് ഈ സന്ദര്‍ഭത്തില്‍ ശരിയാകില്ല.
മറ്റ് ചോദ്യങ്ങള്‍ പൊതുവെ മെച്ചപ്പെട്ടവയായി വിലയിരുത്താവുന്നതാണ്.
രവി, കണ്ണൂര്‍.

II Term Exam Dec 2016 X Hin Qn Analysis


1. 1 മുതല്‍ 3 വരെ ചോദ്യങ്ങള്‍ക്ക് ഉത്തരമെഴുതാനായി കൊടുത്ത പദ്യഭാഗത്തിലെ उखाड़ना, बुरी नज़र എന്നീ പദങ്ങളുടെ അര്‍ത്ഥം കൊടുത്തിരുന്നാല്‍ കുട്ടികള്‍ക്ക് ഉത്തരമെഴുതാന്‍ സഹായകരമാകുമായിരുന്നു.
2. ചോദ്യം 2ന്റെ ഉത്തരമെഴുതാന്‍ പദ്യഭാഗത്തിലെ വരികള്‍ ഉചിതമാണോ എന്ന് സംശയം ജനിപ്പിക്കുന്നു. പദ്യഭാഗത്ത് छाया എന്ന പദവും ചോദ്യത്തില്‍ हरीतिमा യും നില്‍ക്കുന്നു.
3. ചോദ്യം 6ന്റെ കൂടെ मान लें, कल्पना करें ഇവയിലേതെങ്കിലും ചേര്‍ത്ത് കൊടുക്കുന്നത് കൂടുതല്‍ ഉചിതമാകുമായിരുന്നു. ഇവിടെ रपट നെക്കാളും समाचार അല്ലേ എന്നും സംശയം നിലനില്‍ക്കുന്നു.
4. 10 മുതല്‍ 12 വരെ ചോദ്യങ്ങള്‍ക്ക് ഉത്തരമെഴുതാനായി കൊടുത്ത ഗദ്യഭാഗത്ത് मुश्किल എന്ന പദത്തെ തെറ്റായാണ് കൊടുത്തിരിക്കുന്നത്.
5. ചോദ്യം 16ന്റെ ഉത്തരമെഴുതാന്‍ शिखर പുല്ലിംഗപദവും चोटी സ്ത്രീലിംഗപദവും ആണെന്നറിയാവുന്ന കുട്ടികള്‍ക്ക് കഴിഞ്ഞേക്കാം.
6. ചോദ്യം 18ലെ अटूट എന്ന പദത്തിന്റെ അര്‍ത്ഥം കൊടുക്കണമായിരുന്നു.
ഇത്തരം പ്രശ്നങ്ങള്‍ ഒഴിവാക്കിയാല്‍ ചോദ്യപേപ്പര്‍ കഴിഞ്ഞ തവണത്തെ ചോദ്യപേപ്പറിനെ അപേക്ഷിച്ച് വളരെ മെച്ചമായി വിലയിരുത്താവുന്നതാണ്.
രവി, കണ്ണൂര്‍

Sunday, 23 October 2016

I Term Exam Aug 2016 HS Hindi X - Result Analysis FormatClick here
I Term Exam Aug 2016 Result Analysis HS Hin IX Format Click here
I Term Exam Aug 2016 - HS Hindi - Result Analysis FormatClick here

Friday, 21 October 2016

                   

                   मुहावरे और लोकोक्तियाँ

                            तैयारी : जयदीप.के, वटकरा


मुहावरा- कोई भी ऐसा वाक्यांश जो अपने साधारण अर्थ को छोड़कर किसी विशेष अर्थ को व्यक्त करे उसे मुहावरा कहते हैं।
लोकोक्ति- लोकोक्तियाँ लोक-अनुभव से बनती हैं। किसी समाज ने जो कुछ अपने लंबे अनुभव से सीखा है उसे एक वाक्य में बाँध दिया है। ऐसे वाक्यों को ही लोकोक्ति कहते हैं। इसे कहावत, जनश्रुति आदि भी कहते हैं।
मुहावरा और लोकोक्ति में अंतर- मुहावरा वाक्यांश है और इसका स्वतंत्र रूप से प्रयोग नहीं किया जा सकता। लोकोक्ति संपूर्ण वाक्य है और इसका प्रयोग स्वतंत्र रूप से किया जा सकता है। जैसे-‘होश उड़ जाना’ मुहावरा है। ‘बकरे की माँ कब तक खैर मनाएगी’ लोकोक्ति है।

                                 मुहावरे और लोकोक्तियों का फयल यहाँ से डाउणलोड करें

 

Monday, 12 September 2016

VIII Hin Qn Aug 2016 Ans


VIII Hin Qn Aug 2016 Ans
   1-3 कविता के आधार पर उत्तर
1. कविता परिसर साफ़ रखने की बात कहती है। 1
2. 'वर्षा के पानी का संचयन करके जल का संरक्षण करो'- आशयवाली पंक्तियाँ 
     चुनकर लिखें।                                                                 2
         वर्षा से तालों को भर दो
         जल का करो बचाव।
3. कविता के आशय को टिप्पणी के रूप में लिखें, शीर्षक भी लिखें।          4
                       जल का करो बचाव
         बदलाव नामक यह कविता वर्षा जल के संचयन पर बल देती है। कवि पाठकों को वर्षा जल को संचित करके उसका उपयोग करने का उपदेश देते हैं।
         कवि कहते हैं कि कूड़ा-कचड़ा इधर-उधर न फेंककर उसे सही जगह पर डालना चाहिए। ऐसा करने से हमारा परिसर साफ रहता है। पानी को बरबाद करना बड़ा अपराध होता है। हमें पानी का उपयोग सावधानी से करना चाहिए। पानी व्यर्थ बहानेवालों को कभी भी माफ़ नहीं करना चाहिए। बारिश का जल बड़ा वरदान होता है। वह पानी व्यर्थ बहाया जाता है। वास्तव में हमें उस पानी का उपयोग करना है। ऐसा करने से जल की दुर्लभता की समस्या जल्दी दूर हो जाएगी। ऐसी छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देने पर समाज और देश में बहुत बड़ा बदलाव आता है।
        पानी की कमी समाज में एक भयंकर समस्या है। विश्व भर में उस समस्या का बड़ा प्रभाव है। यह कविता पाठकों को, विशेषतः बच्चों और युवकों को पानी का दुरुपयोग न करने और बारिश के पानी का संचयन करने का उपदेश देती है। अतः यह कविता बिलकुल प्रासंगिक और अच्छी है।
     (बरबाद करना : ദുരുപയോഗം ചെയ്യുക सावधानी से : ശ്രദ്ധയോടെ 
व्यर्थ : അനാവശ്യമായി प्रासंगिक : പ്രസക്തം)
                                     अथवा
   परिसर को साफ रखना है - पोस्टर।                              4
    
                    कूड़ा-कचड़ा इधर-उधर न फेंको।
                    कूड़ादान का उपयोग करो।
                                 गंदगी फैलने से-
                     मक्खी-मच्छर आते हैं!
                     कीटाणुओं की संख्या बढ़ती है!!
                     महामारियाँ फैल जाती हैं!!!
                         हमारी
                             समाज की
                                   राष्ट्र की - भलाी के लिए
                         परिसर को साफ रखें, देश को स्वच्छ रखें।

(कूड़ादान : കുപ്പത്തൊട്ടി मक्खी-मच्छर : ഈച്ച, കൊതുക് 
 महामारियाँ : പകര്‍ച്ചവ്യാധികള്‍)
   4-5 गद्यांश के आधार पर उत्तर
4. पिता ने अठारह मील की दूरी पैदल जलने का निश्चय किया।               1
5. पिताजी के व्यवहार पर अरुण गाँधी की डायरी।                       4
तारीखः.....................
        आज मुझे कार लेकर पिताजी के साथ शहर जाने का अवसर मिला। पिताजी को शाम तक की एक मीटिंग थी। माताजी ने सामान खरीदने के लिए लंबी लिस्ट भी दी थी। पिताजी को मीटिंग की जगह छोड़कर, सारे सामान खरीदे और गाड़ी सर्विस के लिए दी। जल्दी ही एक सिनेमाघर में घुसी जहाँ जॉन बेन की एक दिलचस्प फिल्म देखते-देखते समय का ध्यान न रहा। जब ध्यान आया समय साढ़े पाँच बज चुके थे। जल्दी ही गैरेज से कार लेकर पिताजी के पास पहुँचने पर समय छह बजे। पिताजी बेसब्री से मेरा इंतज़ार कर रहे थे। उन्होंने कारण पूछा। मैं झूठ बोला कि कार तैयार नहीं थी। पिताजी को पता था कि कार समय पर तैयार हो गई थी। उन्होंने कहा कि तुम्हें बड़ा करने में मेरी ओर से कुछ गड़बड़ी हुई है। इसलिए मैं यहाँ से घर तक का दूर पैदल चलूँगा। पिताजी ने चलना शुरू किया। मेरी गलती पर पिताजी स्वयं सजा भोग रहे थे। रात को अठारह मील तक पिताजी के पीछे-पीछे गाड़ी धीमी गति से चलाकर घर पहुँचा। यह घटना मुझपर गहरा असर डालनेवाला है। मैंने संकल्प लिया है कि आगे मैं कभी भी झूठ नहीं बोलूँगा। आज का दिन एक विशेष दिन रहा। 
 (सजा भोगनाः ശിക്ഷയനുഭവിക്കുക धीमी गति सेः മന്ദഗതിയില്‍ असर डालनाः സ്വാധീനിക്കുക संकल्पः ദൃഢനിശ്ചയം)
   6-8 गद्यांश के आधार पर उत्तर
6. तीनों राजकुमारों के बीच बहस होता है कि 'कौन सबसे बड़ा ज्ञानी है'     1
7. राजकुमारों के चरित्र के लिए अहंकार अधिक सही लगता है।               1
8. ज्ञानमार्ग एकांकी के राजकुमारों के चरित्र पर टिप्पणी और शीर्षक   3
                         विद्या से विनय होना है
       तीनों राजकुमारों ने गुरु से ज्ञान प्राप्त किया था। ज्ञानार्जन करके अपने-अपने घर वापस चलते समय उनमें बहस होता है कि कौन बड़ा ज्ञानी है। विद्या प्राप्त करते समय विनय होना स्वाभाविक माना जाता है। इन राजकुमारों में अहंकर की अधिकता है, इसीलिए तीनों में बड़ा बहस चलता है। अपने ज्ञान का प्रदर्शन करने के लिए ये राजकुमार शेर की हड्डी को शेर बनाते हैं। याने अपने ही अस्तित्व पर कुल्हाड़ी मारते हैं। याने उनका ज्ञानार्जन सफल नहीं है। अंत में गुरु आकर शेर को बकरी बना देते हैं। नहीं तो उनका ज्ञान उनके ही अंत का कारण बननेवाला था।
(अपने ही अस्तित्व पर कुल्हाड़ी मारनाः സ്വന്തം നിലനില്‍പിനെ ഇല്ലാതാക്കുക)
    9-11 कविता के आधार पर उत्तर
9. कवितांश में 'रात-दिन' आशयवाला शब्द-जोड़ा 'निशा-दिवा' है।        1
10. कविता में 'दुख' की विशेषता सूचित करने के लिए 'अविरत' शब्द का 
     प्रयोग किया है।                                                              1
11. कवितांश पर टिप्पणी                                                        3
अविरत दुख तो उत्पीड़न होता है, लेकिन अविरत सुख कैसे उत्पीड़न होता है। ऐसा विचार लोगों के मन में उठने की संभावना है। कवि कहते हैं कि हमें इस धरती पर जीते समय सदा सुख ही पाना संंभव नहीं, याने ऐसा उम्मीद करना ठीक नहीं होगा। जिस प्रकार रात के बाद दिन, दिन के बाद रात का क्रम होता है उसी प्रकार सुख-दुख का क्रम होता है। दुख के बाद सुख होते समय वह ज्यादा सुखदायक होता है। हमें इस धरती पर ही स्वर्ग की कामना नहीं करना चाहिए। (धरती पर स्वर्ग की कामना करनाः ഭൂമിയില്‍ സ്വര്‍ഗ്ഗം ആശിക്കുക)
    12-15 किन्हीं तीन के उत्तर लिखें।
12. सभी शिक्षक भी हैं और विद्यार्थी भी- बीरबल के इस कथन पर विचार  2
       इस दुनिया के हर व्यक्ति में कुछ--कुछ विशेष क्षमता होती है। याने हर व्यक्ति अन्य व्यक्तियों से भिन्न होता है। ज्ञानार्जन की प्रक्रिया हमारी जिंदगी भर चलती रहती है। हम विभिन्न स्रोतों से ज्ञान बढ़ाने का प्रयास करते हैं। अकबर बादशाह के दरबार में जितने लोगों को बीरबल लाए थे, सब अपने में विशेष क्षमता रखनेवाले थे। उनमें से प्रत्येक व्यक्ति किसी विशेष क्षमता दूसरों को सिखा सकता है।
13. ज्ञानमार्ग एकांकी में राजकुमार 1 कहता है कि मेरे पिता बड़े ज्ञानी हैं और उनका पुत्र होने के नाते मैं बड़ा ज्ञानी हूँ। ऐसा कोई नियम नहीं है कि ज्ञानी पिता का पुत्र हमेशा ज्ञानी होता है। कभी-कभी इसका ठीक उल्टा भी होता है।
(ठीक उल्टाः നേരെ മറിച്ച്)
14. नमूने के अनुसार तालिका की पूर्तिः                                       2
हड्डियाँ पड़ी दिखाई देती हैं हड्डियाँ पड़ी दिखाई देती थीं
बहिन शहर जाने के इंतज़ार में रहती है बहिन शहर जाने के इंतज़ार में रहती थी
पिताजी के पीछे-पीछे कल चलाता है पिताजी के पीछे-पीछे चल चलाता था
15. 'ज्ञानमार्ग' एकांकी के आधार पर उचित प्रस्ताव                         2
  • ज्ञान सबकी भलाई के लिए है
  • दूसरों को नुकसान पहुँचानेवाला ज्ञान अज्ञान है
    16-17 गद्यांश के आधार पर उत्तर
16. मेले का अनुभवः मित्र के नाम मनु का पत्र                       4
                                                             स्थानः................,
                                                             तारीखः...............
प्रिय अबु,
       तुम कैसे हो? घर में सब कैसे हैं? पढ़ाई कैसी है? मैं यहाँ ठीक हूँ।
       आज मैं एक मेले में गया। अच्छा अनुभव था। मैं घोड़े पर वैठा। कुछ खिलौने खरीदे। मेले में मनोरंजन के लिए बहुत सी सुविधाएँ थीं। वहाँ विभिन्न प्रकार के व्यापार चल रहे थे। खाने के लिए भी बहुत-सी चीज़ें थीं। घर वापस आते समय एक कुत्ते के कारण मैं बहुत घबराया था।
      तुम्हारे माँ-बाप को मेरा प्रणाम। छोटे भाई को प्यार।
                                                                तुम्हारा मित्र,
                                                                 (हस्ताक्षर)
                                                                  मनु. के.पी.
सेवा में
       अबु. सी.के.,
       .................,
       .................
17. रेखांकित शब्द का सीधा संबंध                                           1
     जब मैं मेले में जाता हूँ, तब मुझे बहुत खुशी होती है। (उत्तर मैं)
18. संबंध पहचानें और सही मिलान करें।                                    3
हम तीनों इस बात पर गर्व कर सकते हैं कि हमने ज्ञान प्राप्त कर लिया है।
यब बताते हुए मुझे शर्म आई कि मैं जॉन बेन की एक पश्चिमी फिल्म देख रहा था।
सबको यह सीखना चाहिए कि अच्छा इनसान कैसे बन जा सकता है।
19. बादशाह अकबर सबकुछ सीखना चाहते हैं। इसपर बीरबल-
    बूढ़ी महिला वार्तालाप।                                              4
बीरबलः शाहंशाह ने सबकुछ सीखने की इच्छा प्रकट की है।
बूढ़ी महिलाः वह तो संभव नहीं है।
बीः वह तो संभव नहीं है। लेकिन हमें उनको वह समझाना है।
बू. मः कैसे समझाएँगे?
बीः मैं कल विभिन्न प्रकार के काम करनेवालों को राजमहल में उपस्थित कराने जा रहा हूँ।
बू. मः उससे क्या फायदा है?
बीः हम उन्हें समझाएँगे कि यहाँ आए हर व्यक्ति में कुछ--कुछ हुनर और विशेष क्षमता है।
बू. मः उससे यह भी समझा सकेंगे कि सबकुछ सीखना संभव नहीं है।
बीः उसके लिए मैं आपकी भी सहायता चाहता हूँ।
बू. मः ज़रूर मैं भी तुम्हारी सहायता करूँगी।
(उपस्थित करानाः ഹാജരാക്കുക फायदाः പ്രയോജനം ज़रूरः തീര്‍ച്ചയായും)
                             ravi. m. ghss kadannappally, kannur





© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom